Pehli Baar | Dhadak | Ishaan & Janhvi | Ajay Gogavale | Ajay-Atul | Amitabh Bhattacharya

Janhvi and Ishaan bringing out the innocence and magic of first love so beautifully in ‘Pehli Baar’, Sung by Ajay Gogavale and music given by Ajay-Atul.

Janhvi and Ishaan bringing out the innocence and magic of first love so beautifully in ‘Pehli Baar’, Sung by Ajay Gogavale and music given by Ajay-Atul.

Pehli Baar | Dhadak | Ishaan & Janhvi | Ajay Gogavale | Ajay-Atul | Amitabh Bhattacharya

पहली बार है जी
पहली बार है जी
इस कदर किसी की धुन सवार है जी
जिसकी आस में हुई सुबह से दोपेहर
शाम को उससी का इंतेज़ार है जी...

होश है ज़रा
ज़रा ज़रा खुमार है जी
च्छेद के गया
वो ऐसे दिल के तार है जी

पहली बार है जी
पहली बार है जी
इस कदर किसी की धुन सवार है जी
जिसकी आस में हुई सुबह से दोपेहर
शाम को उससी का इंतेज़ार है जी...

हड़बड़ी में हर घड़ी है
धड़कनें हुई बावरी
सारा दिन उसे ढूनडते रहे
नैनों की लगी नौकरी

दिख गयी तो है उससी में
आज की कमाई मेरी
मुश्कुरा भी दे तो मुझे लगे
जीत ली कोई लॉटरी

दिल की हरक़तें
मेरी समझ के पार हैं जी
हे इश्क़ है इसी
या मौसमी बुखार है जी

पहली बार है जी
पहली बार है जी...

सारी सारी रात जागू
रेडियो पे गाने सुनू
छ्हत्त पे लाइट के
जिन चुका हूँ जो
रोज़ वो सितारे गिनू

क्यों ना जाने दोस्तों की
दोस्ती में दिल ना लगे
सबसे वास्ता तोड़ ताड़ के
चाहता हूँ तेरा बनू

अपने फ़ैसले पे मुझको ऐतबार है जी
हो हो तू भी बोल दे
की तेरा क्या विचार है जी

Pehli baar hai ji
Pehli baar hai ji
Is kadar kisi ki dhun sawar hai ji
Jiski aas mein huyi subah se dopehar
Shaam ko ussi ka intezar hai ji...

Hosh hai zara
Zara zara khumar hai ji
Chhed ke gaya
Woh aise dil ke taar hai ji

Pehli baar hai ji
Pehli baar hai ji
Is kadar kisi ki dhun sawar hai ji
Jiski aas mein huyi subah se dopehar
Shaam ko ussi ka intezar hai ji...

Hadbadi mein har ghadi hai
Dhadkanein huyi bawari
Sara din use dhoondte rahe
Nainon ki lagi naukri

Dikh gayi to hai ussi mein
Aaj ki kamayi meri
Mushkura bhi de to mujhe lage
Jeet li koyi lottery

Dil ki harqatein
Meri samajh ke paar hain ji
Hey ishq hai isee
Ya mausmi bukhar hai ji

Pehli baar hai ji
Pehli baar hai ji...

Saari saari raat jaagu
Radio pe gaane sunu
Chhatt pe lait ke
Ginn chuka hoon jo
Roz woh sitare ginu

Kyon na jaane doston ki
Dosti mein dil na lage
Sabse vaasta tod taad ke
Chaahta hoon tera banu

Apne faisle pe mujhko aitbaar hai ji
Ho ho tu bhi bol de
Ki tera kya vichar hai ji

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

A-Z
0-9
A
B
C
D
E
F
G
H
I
J
K
L
M
N
O
P
Q
R
S
T
U
V
W
X
Y
Z